क्रिया परिभाषा (Kriya Definition in Hindi Grammar):
जिस शब्द से किसी काम का करना या होना प्रकट हो, उसे क्रिया कहते हैं। जैसे-खाना, पीना, सोना, जागना, पढ़ना, लिखना, इत्यादि ।
संज्ञा, सर्वनाम और विशेषण की तरह ही क्रिया भी विकारी शब्द है । इसके रूप लिंग, वचन और पुरुष के अनुसार बदलते रहते हैं ।

Dhatu in Hindi Grammar – धातु:
जिस मूल शब्द से क्रिया का निर्माण होता है, उसे धातु कहते हैं। धातु में ‘ना’ जोड़कर क्रिया बनायी जाती है ।

जैसे-
खा + ना = खाना
पढ़ + ना = पढ़ना
जा + ना = जाना
लिख + ना = लिखना।
शब्द-निर्माण के विचार से धातु भी दो प्रकार की होती हैं-
(1) मूल धातु और (2) यौगिक धातु ।
मूल धातु स्वतंत्र होती है तथा किसी अन्य शब्द पर आश्रित नहीं होती। जैसे-खा, पढ़, लिख, जा, इत्यादि ।
यौगिक धातु किसी प्रत्यय के संयोग से बनती है । जैसे-पढ़ना से पढ़ा, लिखना से लिखा, खाना से खिलायी जाती, इत्यादि ।
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬