Ivan the terrible – विश्व के इतिहास का एक ऐसा बुरा राजा जिसके बारे में अधिकांश लोग नहीं जानते













इतिहास अलग अलग प्रकार की विचारधारा के लोगों से भरा पड़ा है कुछ लोग इतिहास में अपने अच्छे कर्म, अच्छी सोच और अच्छी विचारधारा की वजह से अमर हो गए लेकिन इसके विपरीत कुछ लोग अपने सनकीपन ,अपने बुरे कर्म तथा अपनी हैवानियत की वजह से भी इतिहास पर एक बुरी छाप छोड़ गए हैं आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे ही बुरे राजा Ivan the terrible के बारे में जिसके बारे में अधिकांश भारत के लोग नहीं जानते हैं

1.जब वह छोटा था तो चिड़ियों को पकड़कर उनकी आंखें फोड़ देता था और उनके पंख चीरता था क्योंकि उसे ऐसा करने में मजा आता था।

2.वह अपने महल की छत से बिल्लियों और कुत्तों को नीचे फेंक देता था और उनकी चीखें सुनकर उसे आनंद मिलता था

3.औरतों का बलात्कार करने के बाद उन्हें याद तो जिंदा गाड़ देता या जंगली जानवरों को खिला देता

4.उसने अपने राज्य में एक ऐसी सेना बनाई थी जो काले कपड़े पहनकर घोड़ों पर बाहर निकलती तथा इसका कार्य शांति बनाए रखना ना होकर लोगों को मारना था

5.उसने अपनी इस सेना का नाम Oprichnina रखा यह लोग घोड़ों पर बैठकर शहर में निकलते तथा जिसे मन करता था उसे मार देते |

6.van the terrible का जन्म 25 अगस्त 1530 में हुआ था तथा मात्र 3 वर्ष की उम्र में ही इसके पिता की मृत्यु हो गई थी उनकी मृत्यु के बाद मात्र 3 वर्ष की उम्र में ही इसे रूस का  “Tsar” (महाराजा) बना दिया गया

7.राजा बनने के बाद इसने अपनी माता की मदद से शासन को चलाया लेकिन 1538 में जब इसकी उम्र मात्र 8 साल थी तब इसकी माता की मृत्यु हो गई किसी ने उन्हें जहर दे दिया था।

8.ऐसा माना जाता है कि इतनी कम उम्र में इतने बड़े भावनात्मक हादसों की वजह से इसके अंदर की सारी भावनाएं खत्म हो गई थी और इसके अंदर से एक क्रूर शासक का जन्म हुआ।

 9.1570 के आते-आते Oprichnina  सेना के जुल्म बहुत अधिक बढ़ गए थे इसी समय में सेना ने Novgorod शहर में लगभग 10,000 के करीब लोगों को मौत के घाट उतारा था जिसके बाद वहां के लोगों में  अपने शासक के प्रति कट्टर विरोध का भाव उत्पन्न हो गया।

 10.इस घटना के बाद राजा के पास यह खबर पहुंची की Novgorod शहर के लोग उसे तबाह करने की योजना बना रहे हैं जिससे बचने के लिए उसने अपनी सेना को वहां  हमला करने के लिए भेजा तथा इस भयंकर युद्ध में लगभग 60,000 लोगों का नरसंहार हुआ।

 11.अपने आप को असीमित शक्तियों का मालिक मानता था तथा भगवान के बाद सबसे ताकतवर अपने आप को मानता था कुछ विद्वानों का कहना है कि वह 16वीं शताब्दी के समय ग्रंथों में लिखें बहुत ही निर्दई तथा दर्दनाक मौत के तरीके अपनाता था।

12.वह लोगों को पकड़कर राजद्रोह के जुर्म में बिना उस पर कोई मुकदमा चलाया या दोष साबित हुए उनको  जिंदा जलाता या गर्म तेल में तल ता था या ठंडे पानी में डुबोकर मार देता था उसका यह सजा देने का तरीका नर्क के तरीकों सा था।

13.एक बार उसे अपनी पुत्रवधू की कपड़े पसंद नहीं आए तो उसने गुस्से में आकर अपनी पुत्रवधू को इतना मारा कि उसकी कोख में पल रहे बच्चे की मौत हो गई।

 14.इसी बात के चलते उसका अपने बेटे के साथ झगड़ा हो गया और यह झगड़ा इतना बढ़ गया कि उसने अपने बेटे को इस हद तक मारा कि उसकी मौत हो गई जब तक उसका ध्यान गया कि उसने क्या किया तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

15.कुल मिलाकर उसने अपने शासनकाल में लगभग 2,20,000 लोगों को बहुत ही निर्दयी तथा कठोर यातनाएं देकर मारा।

16.इसकी कुल 7 पत्नियां थी ऐसा माना जाता है कि इसने अपनी सातवीं शादी एक औरत के साथ जबरदस्ती की थी और शादी के बाद जब उसे पता चला कि वह वर्जिन नहीं थी तो उसने उसे मार दिया।

और यह था रूस का सम्राट तथा “Tsar” पीढ़ी का पहला राजा Ivan the terrible.  इसका पूरा नाम Ivan Chetvyorty Vasilyevich था इसके पिता का नाम Basil-lll तथा इसकी माता का नाम Elena Glinskaya था.













 1584 मैं अपने साथी के साथ शतरंज खेलते  समय Ivan the terrible को एक स्ट्रोक आया और 28 मार्च 1584 को इसे सबसे बुरे व्यक्ति की मृत्यु हो गई इसकी मृत्यु के बाद रूस के हालात बद से बदतर हो गए वहां की कानून व्यवस्था, शासन प्रणाली, व्यापार, संसाधन सब अस्त व्यस्त हो गए थे |
बोल्शेविक आंदोलन के समय व्लादिमीर लेनिन ivan the terrible का ही उदाहरण देकर लोगों को बताता था कि अगर अभी “Tsar” परिवार तो खत्म नहीं किया, तो ऐसा राजा फिरसे आ सकता है, और फिर रूस के लोग कुछ नहीं कर पाएंगे।