जिन शब्दों के अर्थ में समानता होती है ,उन्हें समानार्थकया पर्यायवाची शब्द कहते है। हिन्दी भाषा में एक शब्द केसमान अर्थ वाले कई शब्द हमें मिल जाते है, जैसे –
• पहाड़ – पर्वत , अचल, भूधर .
• ये शब्द पर्यायवाची कहलाते है.इन शब्दों के अर्थ में समानता होती है,लेकिन प्रत्येक शब्द की अपनी विशेषता होती है.पर्यायवाची शब्दों का प्रयोग करते हुए विशेष सावधानीबरतनी चाहिए । कुछ पर्यायवाची शब्द यहाँ दिए जा रहे है –
आज का वर्ण हैं “अ”
• अंगूर : द्राक्षा , दाख , इंगुर।
• आम : आम्र ,रसाल ,कामशर। 
• अंधकार : तिमिर , अँधेरा , तम।
• आग: अग्नि,अनल,पावक,दहन,ज्वलन,धूमकेतु,कृशानु।
• अच्छा : उचित,शोभन,उपयुक्त,शुभ,सौम्य।
• अजेय : अजित , अपराजित , अपराजेय।
• अतिथि : पाहून, आंगतुक ,अभ्यागत, मेहमान।
• अनुचर : नौकर , दास , सेवक , परिचारक।  
• अनुपम :अनूठा , अनोखा , अपूर्व , निराला , अभूतपूर्व।
• अन्य : पृथक , और , भिन्न ,दूसरा।
• अनाज : शस्य , अन्न , धान्य।
• अरण्य : विपिन , वन , कानन , कान्तार , जंगल।
• आभूषण : विभूषण , भूषण ,गहना , अलंकार।
• आज्ञा : हुक्म , आदेश , निर्देश।
• अमृत : सुधा,अमिय,पियूष,सोम,मधु,अमी।
• असुर : दैत्य,दानव,राक्षस,निशाचर,रजनीचर,दनुज।
• अश्व : वाजि,घोडा,घोटक,रविपुत्र ,हय,तुरंग।
• आम : रसाल,आम्र,सौरभ,मादक,अमृतफल,सहुकार।
• अंहकार : गर्व,अभिमान,दर्प,मद,घमंड।
• आँख – लोचन, नयन, नेत्र, चक्षु, दृग, विलोचन, दृष्टि।
• आकाश – नभ,गगन,अम्बर,व्योम, अनन्त ,आसमान।
• आनंद – हर्ष,सुख,आमोद,मोद,प्रमोद,उल्लास।
• आश्रम – कुटी ,विहार,मठ,संघ,अखाडा।