(1) ‘वह कुल्‍हाड़ी से वृक्ष काटता है’ इस वाक्‍य में ‘से’ किस कारक की विभक्ति है।
(A) अधिकरण
(B) सम्‍प्रदान
(C) करण
(D) अपादान

करण।

(2) ‘माँ ने बच्‍चे को सुलाया’ इस वाक्‍य में ‘को’ किस कारक की विभक्ति है।
(A) सम्‍प्रदान
(B) कर्म
(C) करण
(D) अपादान

कर्म।

(3) ‘अध्‍यापक’ शब्‍द का स्‍त्रीलिंग रूप क्‍या है।
(A) अध्‍यापिका
(B) अध्‍यापकी
(C) अध्‍यापका
(D) अध्‍यापिकी

अध्‍यापिका।

(4) ‘नायक’ शब्‍द का स्‍त्रीलिंग रूप क्‍या है।
(A) नायीका
(B) नायिकी
(C) नायिकी
(D) नायका

नायिका।

(5) ‘महाशय’ शब्‍द का स्‍त्रीलिंग रूप क्‍या है।
(A) महाशिनी
(B) महाशयी
(C) महाशया
(D) महाशियी

महाशया।

(6) ‘नेता’ शब्‍द का स्‍त्रीलिंग रूप क्‍या है।
(A) नेत्री
(B) नेतिन
(C) नेतृ
(D) नेताजी

नेत्री।

(7) ‘दाता’ शब्‍द का स्‍त्रीलिंग रूप क्‍या है।
(A) छात्रि
(B) दातृ
(C) छाती
(D) दार्त्री

दार्त्री।

(8) ‘इन्‍द्र’ शब्‍द स्‍त्रीलिंग रूप क्‍या है।
(A) इन्‍द्रा
(B) इन्‍द्राणि
(C) इन्‍द्रानी
(D) इन्‍द्राणी

इन्‍द्रानी।

(9) ‘ञ’ का उच्‍चारण स्‍थान क्‍या है।
(A) दन्‍त
(B) दन्‍तालु
(C) तालु
(D) मूर्द्धा

तालु।

(10) ‘उ’ ध्‍वनि का उच्‍चारण स्‍थान क्‍या है।
(A) तालु
(B) ओष्‍ठ
(C) कण्‍ठ
(D) दन्‍तालु

ओष्‍ठ ।

(11) ‘समुच्‍च्‍य’ का सही सन्धि-विच्‍छेद क्‍या है।
(A) समु + च्‍चय
(B) सम् + उत् + आय
(C) सम् + उच्‍चय
(D) सम + उच्‍चय

सम् + उत् + आय।

(12) ‘सूर्योदय’ का सही सन्धि विच्‍छेद क्‍या है।
(A) सूर्यो + दय
(B) सूर्ये + उदय
(C) सूर्य + उदय
(D) इनमें से कोई नहीं

सूर्य + उदय।

(13) महेन्‍द्र का संधि विच्‍छेद क्‍या है।
(A) महो + इन्‍द्र
(B) महे + इन्‍द्र
(C) महा + इन्‍द्र
(D) इनमें से कोई नहीं

महा + इन्‍द्र।

(14) ‘क्‍या आप जा रहे है।’ ‘क्‍या’ में कौन सा निपात है।
(A) अवधारणबोधक
(B) प्रश्‍नबोधक
(C) आदरबोधक
(D) तुलनाबोधक

प्रश्‍नबोधक।

(15) ‘मैं भी यह जानता हूँ।’ इस वाक्‍य में ‘भी’ में कौन सा निपात है।
(A) बलदायक निपात
(B) निषेधात्‍मक निपात
(C) नकारात्‍मक निपात
(D) स्‍वीकारात्‍मक निपात

बलदायक निपात।

(16) ‘झूठ मत बोलो’। इस वाक्‍य में ‘मत’ कौन सा निपात है।
(A) सीमाबोधक
(B) अवधारणबोधक
(C) तुलनाबोधक
(D) निषेधबोधक

निषेधबोधक।

(17) ‘तुम्‍हें राम के आने तक प्रतीक्षा करनी होगी’। इस वाक्‍य में ‘तक’ कौन सा निपात है।
(A) निषेधात्‍मक निपात
(B) नकारात्‍मक निपात
(C) बलदायक निपात
(D) इनमें से कोई नहीं

बलदायक निपात।

(18) ‘पशु-पक्षी ही अपना हित समझते है’। इस वाक्‍य में ‘ही’ कौन सा निपात है।
(A) आदरबोधक
(B) बलदायक
(C) अवधारणबोधक
(D) तुलनाबोधक

बलदायक।

(19) ‘काश ! आज वर्षा होती’। इस वाक्‍य में ‘काश’ कौन सा निपात है।
(A) आदरबोधक
(B) सीमाबोधक
(C) विस्‍मयादिबोधक
(D) अवधारणबोधक

विस्‍मयादिबोधक।

(20) निपात कितने प्रकार के होते है।
(A) 5
(B) 7
(C) 9
(D) 8

9 ।